दीपक, निकोलता फेसबुक की दोस्ती से शादी के मंडप तक

एक गोरी मेम क्योंकि उसका प्यार उसे यहां खींच लाया है। उसे फेसबुक पर यहां के एक लड़के से हुआ प्यार और फिर वो चली आई यहां। दोनों ने हिन्दू रीति रिवाज से शादी कर ली है।

इटली की रहने वाली निकोलता 5 मई को भारत आईं और दिल्ली में रूकीं। दीपक, निकोलता को शादी से एक दिन पहले खुर्जा लेकर पहुंचे और शादी कर ली। गाजे-बाजे और शहनाइयों की गूंज के बीच दोनों विवाह बंधन में बंध गए। इलाके भर के लोग विदेशी बाला को दुल्हन के रूप में देखने के लिए शादी के मंडप तक जा पहुंचे।

खुर्जा के मौहल्ला बुर्ज उस्मान खां निवासी दीपक शर्मा नौकरी की तलाश कर रहे थे। इसी बीच फेसबुक पर इटली के बुखारेस्ट की रहने वाली निकोलता से उनकी दोस्ती हो गई। दोस्ती के बीच ही दीपक को इटली के क्रूज जहाज से नौकरी का ऑफर आ गया। दीपक नौकरी के लिए इटली पहुंचें तो पता चला कि निकोलता भी क्रूज पर है।

नौकरी के साथ-साथ निकोलता से दोस्ती और भी गहरी हो गई। दोनों आठ साल तक एक साथ क्रूज पर रहे और यहीं से दोनों ने हमेशा-हमेशा एक साथ रहने की कसमें खा लीं। इस प्यार को उस वक्त और भी ऊंचाइयां मिल गईं, जब दीपक के पिता ने विदेशी दुल्हन लाने की हामी भर दी।

निकोलता ने सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है और कंपनी की तरफ से क्रूज पर सॉफ्टवेयर का काम कर रही थीं।

दीपक शर्मा ने केंद्रीय विद्यालय सूरतगढ़ से हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण की है। इसके बाद दिल्ली विश्वविद्यालय से बीएससी की पढ़ाई करके आईआईटी की कोचिंग करने के बाद नौकरी की तलाश में जुट गए।

दीपक के पिता रविकांत ने कभी सोचा भी नही था कि उनका बेटी विदेशी बहू लेकर आयेगा। पहले तो उन्होंने इस शादी के लिए मना कर दिया था, लेकिन बेटे की इच्छाओं का मान रखते हुए विदेशी को घर लाने के लिए तैयार हो गए। रविकांत अब विदेशी बहू लाकर काफी खुश हैं।

2,170 total views, 2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *