मोदी जी पहले इनके मन की सुनो फिर इनको सुनाओ मन की बात

आज कल हर जगह देखने को मिल रहा है मोदी के 2 साल ये उनके लिए सही हो सकता है जो सहरों में रहते है जहां पहले भी सभी सुविधाए मौजूद थी लेकिन उनका क्या जो इन सुविधाओं से वंचित रह जाते है जहां ट्रांसपोर्ट, स्वास्थ्य सुविधाए और इलेक्ट्रिसिटी नहीं है जहां सायद कोई जनता भी ना हो के क्या चल रहा है उस देश में जिसका वो भी एक अनदेखा हिसा है मोदी जी पहले इनके मन की सुनो फिर इनको सुनाओ मन की बात

क्या कहना है इन अनदेखे गाव के लोगो का : आप इनसे अगर ये पूछे की यहाँ बिजली क्यों नहीं है तो वो कहते है वो क्या होती है आप उनसे ये कहे की देश का प्रधानमंत्री नरेंद्र तो वो कहते है वो कौन है मतलब इन्हे नहीं पता अब आप जान ही गए होंगे मोदी के २ साल कैसे और किसके लिए है

अब जरा मोदी के इस वादे पे ध्यान दे
हम आपको याद दिला रहे है बात पिछले साल स्वतंत्रता दिवस के मोके पर जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपना भाषण दे रहे थे तो उन्होंने इस सुब अवसर पे ये घोषणा की थी के 1000 दिनों के भीतर सभी गावो में बिजली के सुविधा होगी सरकारी आंकड़ों के मुताबिक लगभग 1800 ऐसे गाव है जहां अभी तक बिजली नहीं लेकिन हाल ही में उन्होंने एक और घोषणा की है जिसमे उन्होंने अब 2022 तक ये सुविधा देने की बात कही है

कितने गावो में अभी तक बिजली नहीं
सरकारी आंकड़ों के मुताबिक लगभग 18500 ऐसे गाव है जहां बिजली नहीं है अब जरा इन गावो को देखिये ग्राम पंचायत डलमऊ में रायपुर, उस्मइलापुर, डिबरीपुर, मिर्जापुर, हल्दू काता आदि गांव हैं। गांव की आबादी करीब तीन हजार है। जिसमें करीब डेढ़ हजार की आबादी दलित वर्ग, एक हजार पिछड़ा वर्ग तथा शेष सामान्य वर्ग की आबादी है। ग्राम प्रधान मोतीलाल ने बताया कि वर्ष 2007 में गांव का विद्युतीकरण राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना के तहत हुआ था किंतु सप्लाई शुरू नहीं हो सकी।

शासन द्वारा गांवों को चैबीस घंटे बिजली देने की घोषणा पहला के डलमऊ में हवा-हवाई साबित हो रही है। ग्राम पंचायत के चार पुरवों मे रहने वाले करीब तीन हजार की आबादी को बिजली पहुंचाने के लिए आठ वर्ष पूर्व किए गए प्रयास पर पलीता लग गया। विकास खंड पहला के डलमऊवासी दशकों से बिजली का इंतजार कर रहे हैं। यहां के लोगों के लिए आजादी के दशकों बाद भी विद्युत सुविधाएं दिवास्वप्न सरीखी हैं। बिजली की रोशनी यहां के ग्रामीणों के लिए महज कोरी कल्पना से ज्यादा कुछ नहीं है। कोई भी सरकार हो इनके लिए सब एक है

अब आप पूछिए इनसे मोदी के 2 साल ये ग्रामीण बातएंगे आपको मोदी जी पहले इनके मन की सुनो फिर इनको सुनाओ मन की बात

2,834 total views, 2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *