अब हर कोई पढ़ सकेगा IIT में जानिये कैसे

मानव संसाधन विकास मंत्रालय भारत की शिक्षा को आधुनिक और अपडेट करने के लिए लगातार बदलाव कर रहा है। अब शिक्षा मंत्रालय नई पहल के तहत अब छात्र घर बैठे देखें आईआईटी और कुछ शीर्ष संस्थानों के व्याख्यानों को सुन और देख पाएंगे। मंत्रालय की ओर से बताया गया है कि अगस्त 2016 तक 32 डी.टी.एच. चैनल शुरू किए जाएंगे. इसके लिए मोदी सरकार की 16 जून से शुरू होने वाली विद्यांजलि योजना को भी शुरु करेगी.

इसके लिए अब स्कूल में पढ़ाने के लिए शिक्षक का होना नहीं होगा जरूरी। इसके लिए सरकार छात्र अब घर बैठे छह आईआईटी समेत कुल 10 संस्थानों के व्याख्यानों को 32 डायरेक्ट टू होम (डीटीएच) चैनलों के माध्यम से देख सकेंगे।

इस परियोजना के लिए अंतरिक्ष अनुसंधान केन्द्र इसरो जीएसटी शृंखला के उपग्रहों के लिए 2 ट्रांसपोंडर आवंटित करने पर सहमत हो गया है। वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सरकार उच्च गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की पहुंच का विस्तार करने के लिए अंतरिक्ष तकनीक के इस्तेमाल पर ध्यान दे रही है। 32 डायरेक्ट टू होम (डीटीएच) चैनलों के जरिए ‘शिक्षण के दस छोरों’ से सीधी पढ़ाई का प्रसारण सुनिश्चित करने का लक्ष्य है। इन 10 संस्थानों में से 6 चेन्नई, मुंबई, दिल्ली, खडग़पुर, कानपुर और गुवाहाटी स्थित आईआईटी हैं।

एक दर्जन से अधिक दूसरे प्रतिष्ठित संस्थानों के व्याख्यान भी डीटीएच टीवी के जरिए छात्रों तक पहुंचाए जाएंगे और इन नामों को अंतिम रूप दिया जा रहा है।ये चैनल सरकारी टी.वी चैनल दूरदर्शन के फ्री डिश के डीटीएच मंच पर मुफ्त में उपलब्ध कराए जाएंगे और छात्रों को उनके लिए केवल सेट टॉप बॉक्स लगाने की जरूरत होगी। सूत्रों ने बताया कि पिछले महीने हुई एक बैठक में आईआईटी गांधीनगर के निदेशक के नेतृत्व वाली एक उच्च स्तरीय समिति ने परियोजना लागू करने के ब्योरे तैयार किए। समिति ने इस साल अगस्त तक इन चैनलों का प्रसारण शुरू करने की सिफारिश की।

747 total views, 2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *